चौथे चरण के लिए दिग्गजों ने झोंकी ताकत

UP_electionचुनाव डेस्क। यूपी विधानसभा चुनाव में चौथे चरण के मतदान की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। पार्टी और नेताओं की धड़कने बढ़ी है, तीन चरणों के चुनाव के बाद चौथे चरण के प्रचार में पार्टी के स्टार प्रचारकों ने जिले में डेरा डाल रखा है । प्रदेश में सर्वाधिक सीट वाले जिले के लिये आने वाला दो दिन बेहद अहम् है । प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी सहित राहुल गाँधी अखिलेश और डिम्पल की ताबक तोड़ जन सभाए और रोड शो होने जा रहा है । सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी जिले के गंगा पार क्षेत्र में भाजपा अपनादल गठबंधन को मजबूत करेंगे तो वही यमुनापार में राहुल गाँधी और डिम्पल यादव भी सपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों के लिये जनसभा कर समर्थन मांगेगे । एक ही दिन में दोनों गठबंधन के बड़े चेहरे एक साथ जिले में होंगे और सबसे बड़ी चुनौती भीड़ जुटाकर अपनी ताकत दिखाने की भी होगी ।
यूपी चुनाव की पटकथा भाजपा ने इलाहाबाद में राष्ट्रीय कार्यकारिणी का आयोजन कर लिखनी शुरू कर दी थी और यूपी के मद्देनजर पहली जनसभा का आगाज भी यही हुआ। जिसमे प्रधानमंत्री मोदी , लाल कृष्ण आडवाणी ,मुरली मनोहर जोशी सहित पार्टी के दिग्गज सामिल हुए। कार्यकारिणी की बैठक कर इंदिरा के घर में कांग्रेस मुक्त का नारा बुलंद बुलन्द किया और यूपी में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का दावा भी मजबूत किया । अब से नौ माह पहले चुनावी सुगबुगाहट शुरू ही हुई थी की मोदी की सभा में लाखों की भीड़ ने सभी राजनितिक दलो के माथे पर तनाव ला दिया था। उसके बाद सभी दलो ने अलग अलग आयोजन कर अपनी अपनी ताकत दिखाई।कांग्रेस के गढ़ में कार्यकारिणी कर घेरने के बाद अब नेहरू की सीट फूलपुर के अंदावा से भाजपा को जिताने की अपील करने आ रहे मोदी कांग्रेस सपा गठबन्धन पर जोरदार हमले की तैयारी में है।मोदी की सभा से जिले की बारह सीटों के अलावा कौशाम्बी प्रतापगढ़ को भो प्राभावित करने की कोशिश होगी।लेकिन कार्यकारिणी के स्थित से अब की स्थित में परिवर्तन है ,उस समय टिकट के दावेदारों की बड़ी भीड़ थी और सबने अपनी ताकत दिखाने को समर्थको का हुजूम लेकर पहुँचे थे। और अब कार्यकर्ताओं की नाराजगी हाबी है। चुनाव से ठीक पहले 27 साल यूपी बेहाल की यात्रा और खाट सभा कर लोगो तक पहुँचने की कोशिश के बाद साइकिल पर लिफ्ट लेकर राहुल गांधी इलाहबाद पंहुच रहे है साथ सपा की स्टार प्रचारक डिम्पल यादव भी मंच साझा कर रही है। यमुनापार के करछना में सभा करने आ रहे राहुल गांधी के लिए जातीय समीकरण को साधना कठिन होगा ।क्योंकी यमुनापार ब्राह्मण बाहुल्य क्षेत्र माना जाता है पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा की कर्मस्थली में बहुगुणा परिवार की मजबूत पकड़ है। और डॉ रीता बहुगुणा के भाजपा में जाने के कारण कोई भी बड़ा स्थानीय चेहरा मंच पर नही होगा। चैथे चरण में सभी दलों के दिग्गज दांव पर है।जिले में पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी से लेकर प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद तक की इज्जत दांव पर है । कौशाम्बी गृह नगर और इलाहाबाद संसदीय क्षेत्र में केशव की अग्नि परीक्षा होनी है।तो वही लगातार दो चुनाव हार रहे उज्ज्वल रामण सिंह को जिताना रेवती रमण के लिए चुनौती की बात है। तो पहली बार राष्ट्रिय अध्यक्ष बनने के बाद छोटे लोहिया जानेस्वर मिश्रा के घर में पिता मुलायम की तरह अपनी छवि मजबूत करने पहुँच रहे अखिलेश यादव को भी खुद को साबित करना होगा।

Leave a Comment