मीट व्यवसायी के यहां इन्कम टैक्स का छापा: करोड़ों के हेराफेरी

लखनऊ। आयकर विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मीट निर्यातक समूह रुस्तम ग्रुप के 19 ठिकानों पर छापे मारे। यह कार्रवाई कानपुर के अलावा मुंबई, झांसी, उन्नाव, लखनऊ और हापुड़ में ग्रुप के ऑफिस, फैक्ट्री और आवासीय परिसरों में एक साथ की गई। रुस्तम ग्रुप के कर्ताधर्ता सलीम कुरैशी हैं। सालाना एक हाजर करोड़ के अधिक का कारोबार करने वाले इस ग्रुप पर कार्रवाई में आयकर विभाग के 200 से ज्यादा अधिकारी शामिल रहे।
रुस्तम ग्रुप के कानपुर और उन्नाव बेल्ट में कई स्लाटर हाउस हैं। यहां कई बड़े और अत्याधुनिक स्लाटर हाउस भी हैं, जो मीट को बड़े पैमाने पर निर्यात करते हैं। नोटबंदी के बाद से ही कई निर्यातक आयकर विभाग के निशाने पर हैं। उस दौरान खातों में जमा मोटी रकम के बाद लगातार उनके वित्तीय लेनदेन पर खुफिया निगाह रखी जा रही है। इसी कड़ी में प्रधान आयकर निदेशक जांच अमरेन्द्र कुमार के निर्देश पर रुस्तम ग्रुप के दफ्तर और फैक्ट्री में छापा मारा गया। समूह के छह शहरों के 19 परिसरों को जांच की जद में लिया गया। इसमें एक झांसी, कानपुर-उन्नाव में तीन-तीन, मुंबई में 4 , लखनऊ में 6 और हापुड़ में 2 परिसर हैं। समूह का अत्याधुनिक स्लाटर हाउस और प्रोसेसिंग हाउस है, जिसमें बड़े जानवर काटे जाते हैं। समूह के मुखिया सलीम कुरैशी के कई घर कानपुर के जाजमऊ, लखनऊ के अलावा मुंबई में भी हैं। छापेमारी के दौरान आयकर विभाग को वह लखनऊ स्थित अपने आवास पर मिले। अरबपति कुरैशी का रहन सहन साधारण है। यही वजह है कि कभी आयकर विभाग के रडार पर वह नहीं आए। इस कार्रवाई में कानपुर के अलावा कई शहरों की टीमें टैक्स चोरी के दस्तावेज खंगाल रहीं हैं। हजारों दस्तावेज, प्रपत्रों के अलावा कंप्यूटर डाटा सीज किया गया है। उनकी जांच की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक आयकर रिटर्न की जांच में भारी गड़बड़ी मिली है। करोड़ों रुपए की टैक्स चोरी पकड़े जाने की आशंका है।

Leave a Comment