गरीबों को गुमराह करने का षडय़ंत्र

ललित गर्ग। सत्तर साल से गरीबी एवं गरीबों को मजबूत करने वाली पार्टी कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने दुनिया की सबसे बड़ी न्यूनतम आय गारंटी योजना से गरीबों के हित की बात करके देश की गरीबी का भद्दा मजाक उडाया है। इस चुनावी घोषणा एवं आश्वासन का चुनाव परिणामों पर क्या असर पड़ेगा, यह भविष्य के गर्भ में है, लेकिन इस घोषणा ने आर्थिक विशेषज्ञों एवं नीति आयोग की नींद उड़ा दी है। इस योजना को बीजेपी सरकार द्वारा किसानों को सालाना 6000 रुपए देने की घोषणा का जवाब…

Read More

जीवन व्यस्त हो, अस्तव्यस्त नहीं

  ललित गर्ग। असन्तुलन एवं अस्तव्यस्तता ने जीवन को जटिल बना दिया है। बढ़ती प्रतियोगिता, आगे बढऩे की होड़ और अधिक से अधिक धन कमाने की इच्छा ने इंसान के जीवन से सुख, चैन व शांति को दूर कर दिया है। सब कुछ पा लेने की इस दौड़ में इंसान सबसे ज्यादा अनदेखा खुद को कर रहा है। बेहतर कल के सपनों को पूरा करने के चक्कर में अपने आज को नजरअंदाज कर रहा है। वह भूल रहा है कि बीता हुआ समय लौटकर नहीं आता, इसलिए कुछ समय अपने…

Read More

भाजपा को नया संकल्प-नया धरातल चाहिए

ललित गर्ग। नरेन्द्र मोदी चुनाव मैदान में पूरी तरह सक्रिय हो गये हैं। वर्ष 2019 के आम चुनाव में अद्भुत, आश्चर्यकारी जीत के लिये उनके पास सशक्त स्क्रिप्ट है तो उनकी साफ-सुथरी छवि का जादू भी सिर चढक़र बोल रहा है। चारों ओर से स्वर तो यही सुनाई दे रहा है कि यह चुनाव न तो मोदी बनाम राहुल है, और न ही मोदी बनाम मायावती, अखिलेश या ममता है। बल्कि यह चुनाव मोदी बनाम मोदी ही है। इसलिये भाजपा सरकार एवं मोदीजी के लिये यही वह समय है जिसका…

Read More

आज शुरू हो रहा है क्रिकेट का महाकुंभ

खेल डेस्क। वनडे क्रिकेट का महाकुंभ आईसीसी वल्र्ड कप आज से शुरू हो रहा है। इस बार भारत और मेजबान इंग्लैंड को खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। भारत तीसरी बार और इंग्लैंड पहली बार यह प्रतिष्ठित खिताब हासिल करने की कोशिश करेगा। इंग्लैंड और वेल्स की संयुक्त मेजबानी में यह टूर्नमेंट 30 मई से 14 जुलाई तक होगा। इस प्रतिष्ठित टूर्नमेंट में मौजूदा चैंपियन ऑस्ट्रेलिया (1987, 1999, 2003, 2007 और 2015 का विजेता), भारत (1983 और 2011 का विजेता), वेस्ट इंडीज (1975 व 1979 का विजेता), पाकिस्तान…

Read More

मातृ दिवस विशेष

माँ तू ही यशोदा ,कौशल्या भी मेरी, तुझ से मिलती है, सूरत भी मेरी। तुमसे ही तो मैं हूँ रची, बगिया में तेरे सुमन सी सजी। धूप में भी तुम छाया जैसी, शीत में मखमल धूप के जैसी। लफ्ज़ों में ना कह मैं पाऊँ, सुरम्य मूरत मैं कैसे बताऊँ? अधरों से हर पल मुस्काये, भीतर से तू नीर बहाए। स्नेह ममता का तू है सागर नेह बरसाती दया का सागर। दुख के बादल जो हम पर छायें, आँचल में तिरे सुकूँ हम पायें। अँधेरों में दीपक बन जाये, जब घनियारी…

Read More