मीट व्यवसायी के यहां इन्कम टैक्स का छापा: करोड़ों के हेराफेरी

लखनऊ। आयकर विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मीट निर्यातक समूह रुस्तम ग्रुप के 19 ठिकानों पर छापे मारे। यह कार्रवाई कानपुर के अलावा मुंबई, झांसी, उन्नाव, लखनऊ और हापुड़ में ग्रुप के ऑफिस, फैक्ट्री और आवासीय परिसरों में एक साथ की गई। रुस्तम ग्रुप के कर्ताधर्ता सलीम कुरैशी हैं। सालाना एक हाजर करोड़ के अधिक का कारोबार करने वाले इस ग्रुप पर कार्रवाई में आयकर विभाग के 200 से ज्यादा अधिकारी शामिल रहे। रुस्तम ग्रुप के कानपुर और उन्नाव बेल्ट में कई स्लाटर हाउस हैं। यहां कई बड़े और…

Read More

अखिलेश की हुंकार: जीत के लिए बढ़ें आगे

लखनऊ। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी को मजबूत करने के काम में जुट जाएगी। आगामी चुनाव को निर्णायक बताते हुए उन्होंने कहा कि अब पार्टी किसी गठबंधन के बारे में नहीं सोचेगी बल्कि पार्टी का जनाधार बढाना ही लक्ष्य है। एक न्यूज एजेंसी से बात करते हुए उन्होंने कहा कि साल 2019 के चुनाव निर्णायक हैं, ऐसे में हम पूरी तैयारियों के साथ मैदान में उतरना चाहते हैं। हम किसी दल के साथ गठबंधन के बारे में नहीं सोच रहे हैं।…

Read More

आधार के बाद अब वर्चुअल आईडी

नई दिल्ली। आधार कार्ड की सुरक्षा को लेकर उठ रहे सवालों के बीच भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने इसकी सिक्योरिटी के लिए बड़ा कदम उठाया है। इस दिशा में यूआईडीएआई ने एक नया कॉन्सेप्ट पेश किया है जिसका नाम है वर्चुअल आईडी। अब विभिन्न सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए अपना आधार नंबर देना अनिवार्य नहीं होगा। आधार कार्ड होल्डर इसकी वेबसाइट से अपना 16 अंकों का वर्चुअल आईडी बना सकेगा जिसे वह सिम वेरिफिकेशन समेत विभिन्न जगह दे सकता है। यानी अब उसे अपना 12 अंकों का बायोमेट्रिक…

Read More

राज्यसभा की प्रासंगिकता पर सवाल क्यों?

ललित गर्ग। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा उम्मीदवारों को लेकर विवाद होना और सवाल उठना स्वाभाविक है। इस मसले ने एक बार फिर राज्यसभा की उपयोगिता एवं प्रासंगिकता पर भी सवाल खड़े कर दिये हैं। भारत में लोकतांत्रिक प्रणाली के तहत जिस तरह की शर्मनाक घटनाएं घट रही हैं, इसमें आम आदमी पार्टी के द्वारा राज्यसभा सदस्य बनाने की स्थितियों ने एक दाग और जड़ दिया है। इस तरह की शर्मनाक स्थितियों की वजह से लोगों की आस्था संसदीय लोकतंत्र के प्रति कमजोर होना स्वाभाविक है। लोकतंत्र के मूल्यों के…

Read More