ममता ने ओवैसी को दिया झटका : एआईएमआईएम के बंगाल चीफ टीएमसी में शामिल

मुस्लिम वोटों पर नजर रखते हुए बंगाल विधानसभा चुनाव में कूदने वाले असदुद्दीन ओवैसी को ममता बनर्जी ने अपने दांव से बड़ा झटका दिया है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के कार्यवाहक अध्यक्ष एसके अब्दुल कलाम ने पाला बदल लिया है। पार्टी के कई और सदस्यों के साथ वह टीएमसी मे शामिल हो गए हैं।कहा कि कई वर्षों से पश्चिम बंगाल में शंति का माहौल है और विद्वेष के वातावरण को दूर रखने के लिए उन्होंने पार्टी का रुख किया है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ”हमने देखा है कि पश्चिम…

Read More

बिहार चुनाव: भैया तेजस्वी हमार, हमनी के प्यारा लागे लन

पटना। बिहार चुनाव में राजद और जदयू ने पूरी ताकत झोंक दी है। वोटरों को लुभाने के लिए जहां तरह-तरह से प्रचार किया जा रहा है वहीं दोनों दल अपने तरीके से गीत और संगीत के माध्यम से भी वोटरों तक अपनी बात पहुंचा रहे हैं। इसी क्रम में राजद ने अपना एक और प्रचार गीत जारी किया। पार्टी ने इस विधानसभा चुनाव में अपने प्रचार अभियान को तेजस्वी भव बिहार टैग लाइन दिया है। प्रचार अभियान के केंद्र में नेता प्रतिपक्ष और महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के…

Read More

बीजेपी ने खेला आप को घेरने का दांव

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को टक्कर देने के लिए बीजेपी ने एक बड़ा दांव चला है। बीजेपी ने जारी पहली उम्मीदवारों की सूची में 26 नेताओं के टिकट काट दिए है। इसमें बीजेपी दिल्ली के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष और रिठाला सीट से तीन बार के विधायक रहे कुलवंत राणा का नाम भी शामिल है। बीजेपी ने पहली लिस्ट में किसी भी अल्पसंख्यक वर्ग के उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया गया है। वहीं पार्टी ने एक बार फिर बड़ी संख्या में एमसीडी के…

Read More

खोखले चुनावी वादें कब तक?

ललित गर्ग। आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए चुनावी वादों की ऐसी भरपूर बारिश होने लगी है कि लगने लगा है लोकतंत्र नेताओं के लिए ही नहीं, जनता के लिए सचमुच महाकुंभ की तरह है। लेकिन विडम्बना यह है कि ये वादें एवं नारे खोखले होते हैं। किसी समस्या की गहराई में जाकर उसके सूक्ष्म पक्षों पर चर्चा करने से ज्यादा आसान है बड़ी-बड़ी बातें करना, भावनात्मक मुद्दों को उछालना और मतदाताओं को लुभाना एवं ठगना। पुराना मुहावरा है कि झूठ की जुबान लंबी होती है और चुनाव के समय…

Read More

महागठबंधन-उप्र की 47 सीटों पर बसपा, 3 पर रालोद, दो कांग्रेस बाकी सपा!

बसपा अध्यक्ष को प्रधानमंत्री तो सपा अध्यक्ष को 2022 में उप्र का मुख्यमंत्री पद चाहिए, नई दिल्ली। उप्र के लोकसभा के चुनाव में सपा-बसपा का गठबंधन होगा या नही, इस पर अटकलबाजी चल रही है। सूत्रों का दावा है कि गठबंधन होने पर उप्र की 80 लोकसभा सीटों में 47 सीटों पर बसपा लड़ेगी। बाकी सीटों में 3 राष्ट्रीय लोकदल, दो सीटें अमेठी व रायबरेली कांग्रेस के लिए छोड़ी जाएगी। पीस पार्टी व निषाद पार्टी को एक-एक सीट मिलेगी, इसके बाद जो बचेगी 26 सीटें उस पर सपा लड़ेगी। दो…

Read More